जाने सुबह खाली पेट गोमूत्र पीने से हमारे शरीर में होता है क्या

जाने सुबह खाली पेट गोमूत्र पीने से हमारे शरीर में होता है क्या
गौमूत्र ही खाली पेट लेना चाहिए। बीमार व्यक्ति को 100 ग्राम गौमूत्र पीना चाहिए। खाली पेट, कुछ भी खाने से 1 घंटे पहले इसे पीना चाहिए और जो बीमार हैं वह दिन में दो बार भी ले सकते हैं। स्वस्थ लोगों को 50 ग्राम से ज्यादा नहीं पीना चाहिए।

    नियमितपर इसका सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। यह शरीर को बैक्टीरिया से बचाती है। गाय का मूत्र पीने से रक्त शुद्ध होता है जिसकी वजह से मनुष्य उन बीमारियों से बच सकता है जो रक्त की अशुद्धि की वजह से होती है।

    त्रिफला दूध का सेवन एक साथ किया जाए तो यह शरीर में एनीमिया की बीमारी को दूर करता है।
     टेंशन की वजह से हमारे नर्वस सिस्टम पर बुरा असर पड़ता है। गौमूत्र पीने से दिमाग और दिल दोनों को ही ताकत मिलती है और ये दोनों कई बीमारियों से बचे रहते हैं।

     वात, पित्त और कफ के रोगों को अकेले खत्म करने की क्षमता देशी गाय के गौमूत्र में होती है। गौमूत्र वात, पित्त, कफ तीनों की समस्या को अकेले की ख़त्म कर सकती है।

     गौमूत्र में वही 18 सूक्ष्म पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कि मिट्टी में भी होते हैं। शरीर की बीमारियों को ठीक करने के लिए शरीर को जितने घटक चाहिए होते हैं वह सब गौमूत्र में उपलब्ध होते हैं। जैसे-सल्फर की कमी से शरीर में त्वचा के रोग होते हैं। गौमूत्र पीने से सोराइसिस, एक्जिमा, खुजली, दाद-खाज जैसे स्कीन के सभी रोग ठीक हो जाते हैं।

     गोमूत्र के पीने से टी.वी. जैसी बीमारी से पीड़ित व्यक्ति दुबारा फिर इस बीमारी से पीड़ित नहीं होता है। गोमूत्र से शरीर की प्रतिरोधक शक्ति इतनी अधिक बढ़ जाती है कि इससे बीमारियाँ शरीर में प्रवेश नहीं कर पाती हैं। टी.बी. की बीमारी में डाट्स की गोलियों का असर गौमूत्र के साथ 20 गुना बढ़ जाता है। सिर्फ गौमूत्र पीने से टी.बी. 3 से 6 महीने में ठीक होती है तो वहीं सिर्फ डाट्स की गोलियां खाने से टी.बी. 9 महीने में ठीक होती है। जबकि डाट्स की गोलियाँ और गौमूत्र साथ-साथ लेने पर टी.बी. 2 से 3 महीने में ठीक हो जाती है।
    आंखोलन और शरीर में सुस्ती हो तो गौमूत्र में चीनी मिलाकर पीना लाभकारी होता है।

    गौमूत्रगोल्ड साल्ट्स से भरा होता है। जो हमारे शरीर में मिनरल्स के बैलेंस को कंट्रोल करता है। जिससे हमारी स्मरणशक्ति बढ़ती है और हमारा शरीर रोगों से अच्छी तरह से लड़ सकता है।

    करक्यूमिन तत्व की कमी से हम कैंसर जैसी बीमारी से घिर जाते हैं। गौमूत्र में करक्यूमिन भरपूर मात्रा में पाया जाता है और पीने के तुरन्त बाद आसानी से पच जाता है। पेट के कैंसर, गले के कैंसर और आहारनली के कैंसर को गौमूत्र के सेवन से सही किया जा सकता है।
***