क्या महिलाये हनुमान जी की पूजा कर सकती है ? क्या कहते हैं शास्त्र इस सम्बन्ध में !!

श्री राम भक्त हनुमान का पूजन करने से लगभग समस्त देवी देवताओं का पूजन हो जाता है कलयुग में हनुमान जी की पूजा अपने मनोरथों को पूर्ण करने का सबसे प्रभावशाली और सरलतम माध्यम है।

हनुमानजी अखंड ब्रह्मचारी और महायोगी भी है इसलिए सबसे जरूरी है कि उनकी किसी भी तरह की उपासना में वस्तु से लेकर विचारों तक पावनता ब्रह्मचर्य और इंद्रीय संयम को अपनाना चाहिए।

हनुमान के जीवन के बारे में हमें कुछ जानकारियां मिली है तो हमें यह पता चला है की है हनुमान जी स्त्री जाति को प्रणाम करते थे। उनको मान-सम्मान और मां मानते थे।

इसलिए कोई स्त्री उनके आगे झुके यह उनको बिल्कुल पसंद नहीं है लेकिन यह नहीं कि स्त्री उनकी पूजा नहीं कर सकती यह बात किसी भी ग्रंथ या शास्त्र में नहीं लिखी है स्त्री हनुमानजी की पूजा नहीं कर सकती है।

रामचरित्र मानस में संपूर्ण रामायण का उल्लेख है उस दौरान हनुमान जी ने प्रत्येक नारी को सम्मान दिया है और उनको मां समान बताया है इसके अनुसार ही लोग यहां कहते हैं स्त्री पूजा नहीं कर सकती ऐसा नहीं हैस्त्री कहते हैं कि भगवान से अगर रिश्ता जोड़ लो सारी मनोकामनाएं जल्दी पूरी होती है

बस आपको भी यही करना है आप भी हनुमान जी से एक रिश्ता बना लीजिए भाई और बहन का रिश्तास्त्री जब रक्षाबंधन आए उनको राखी बांधकर आप उनसे भाई का रिश्ता जोड़ ले रिश्ते के तहत आप हनुमान जी की पूजा कर सकती और उनका आशीर्वाद भी पा सकती हैस्त्री
***