बवासीर का आयुर्वेदिक घरेलु उपचार

बवासीर का आयुर्वेदिक घरेलु उपचार
  •     2 लीटर छाछ में थोड़ी सी अजवाइन और जीरा मिलकर पी जाएँ, इसके नियमित सेवन से बवासीर धीरे धीरे ख़त्म हो जाती है।
  •     गुड को जिमीकंद के साथ मिलकर नियमित सेवन करें। इसके सेवन से भी बवासीर पर नियंत्रण रखा जा सकता है।
  •     मल, मूत्र और gas आने पर उसको ज्यादा समय तक पेट में रोककर न रखें। इससे भी बवासीर होता है।
  •     आयुर्वेदिक के अनुसार तिल (sesame) के लड्डू को खाने से भी बवासीर ख़त्म होता है।
  •     तरल खाद्य पदार्थों का सेवन अधिक करें जैसे सूप, नारियल पानी (coconut water), पानी, लस्सी, छाछ आदि। इनके अधिक सेवन से मल तरल हो जाता है और मल त्यागते समय तकलीफ नहीं होती।
  •     दूध को उबालकर उसमे पके केले को मसलकर डाल दें और घोल तैयार कर लें। इसको दिन में 2 से 3 बार सेवन करें।
  •     चुकंदर का रस (beetroot juice), पालक का रस (spinach juice) और गाजर का रस (carrot juice) को रोज पियें।
  •     रोजाना बवासीर वाली जगह पर नीम का तेल लगायें, कभी फायदा होगा।
  •     शलजम, मेथी, करेला, गाजर, प्याज और अदरक का नियमित सेवन करें।
  •     लगातार 3 महीने तक रोज सुबह जामुन का सेवन करें, लाभ मिलेगा।
  •     मूली के नियमित से भी बवासीर रोग ख़त्म होता है।
  •     पुदीना, अदरक, निम्बू का रस और शहद को पानी में मिलकर रोज सेवन करें।
***