कहीं आपके कंगाली की वजह आपकी ये गलतियां तो नहीं हैं, जानें!

आजकल लोग तेजी से सफलता पाना चाहते हैं। इसके लिए कई बार वह गलत रास्तों पर चलने से भी नहीं कतराते हैं। लोग आज के समय में दिल से सोचने की बजाय दिमाग का ज्यादा उपयोग करने लगे हैं। लोग सफलता पाने के लिए साम, दाम, दंड, भेद हर तरह की नीति को अपना रहे हैं। ये चीजें थोड़े समय के लिए आपको सुख जरूर दे सकती हैं, लेकिन लम्बे समय के लिए नहीं। बाद में आपको अपनी गलतियों की वजह से दुःख ही भोगना पड़ता है। बदल दें अपनी बुरी आदत:
इंसान को हमेशा इमानदारी से काम करना चाहिए। ऐसे रास्तों का चुनाव करें जिससे मानवता की भलाई हो। अपनी गलतियों को जल्द से जल्द सुधार लें, कहीं ऐसा ना हो जाए कि आप अपनी गलतियों की वजह से एक दिन कंगाल हो जाएं। राशियां इंसान के जीवन में बहुत मायने रखती हैं। इसके माध्यम से आपके व्यक्तित्व का पता चलता है। राशी के अनुसार अपना व्यक्तित्व बदलकर आप अपने जीवन की कई परेशानियों को दूर कर सकते हैं।

राशी के अनुसार बदलें अपना व्यक्तित्व:

*- मेष:
इस राशी के लोगों को अचानक विचारों में होने वाले बदलाव, क्रोध, अंधभक्ति और अनियंत्रण से बचना चाहिए।

*- वृष:
इस राशी वाले व्यक्ति को क्रोध, आलस्य, कामुकता, स्वार्थ, भौतिक सुख से बचने की कोशिश करनी चाहिए। ये चीजें व्यक्ति की छवि को खराब कर देती हैं।

*- मिथुन:
इस राशी के लोगों को वाचालता, एक साथ दो काम करने की आदत, विविधता, शीघ्र निर्णय लेने की कमी, एकाग्रता की कमी, किसी भी चीज का परिणाम तुरंत जानने की इच्छा काफी नुकसान पहुंचाती है।

*- कर्क:
इस राशी के लोगों को आत्मप्रशंसा, अहं, खुशामद, क्रोध, खुद को ज्यादा बुद्धिमान समझना, जिद्दी स्वाभाव, किसी के अधीन काम ना करने की आदत को छोड़ देना चाहिए।

*- सिंह:
इस राशी के लोगों को ज्यादा चतुराई दिखाने की आदत, झूठ बोलने की आदत, चुगलखोरी, तथा घूसखोरी की आदत कभी नहीं अपनानी चाहिए।

*- कन्या:
इस राशी के लोगों को दूसरों की बुराई, उनकी कमी निकलना, दूसरों पर संदेह करना, अनावश्यक धन खर्च करने की आदत, अधीरता, अत्यधिक विश्लेषण की आदत से बचना चाहिए।

*- तुला:
इस राशी के व्यक्ति को जल्दी निर्णय ना लेने की वजह से हानि, स्त्रियों का हित सोचने पर गलतफहमी, त्यागी होना, सौन्दर्य पर ज्यादा खर्च करने की वजह से नुकसान उठाना पड़ सकता है। इसलिए इन आदतों को जल्द से जल्द छोड़ देना ही बेहतर होता है।

 *- वृश्चिक:
इस राशी के व्यक्ति को क्रोध, बदला लेने की प्रवृत्ति, व्यंगात्मक आलोचना आत्मप्रशंसा और अवसरवाद की प्रवृत्ति से बचना चाहिए।

*- धनु:
इस राशी के व्यक्ति को वाचालता और लगातार संभाषण से बचना चाहिए। कठोर और व्यंगात्मक वाणी बोलकर किसी को कष्ट देने से बचना चाहिए।

 *- मकर:
इस राशी के व्यक्ति को दिखावा, आत्मप्रशंसा, स्वार्थपरकता, भावहीनता, बुरा बोलने की आदत की वजह से परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

*- कुम्भ:
इस राशी के जातकों को सक्रियता और तेजी से काम करने की आदत विकसित करनी चाहिए। उन्हें एकांतवास और निराशा और उदासी से बचना चाहिए। जिन लोगों को पसंद नहीं करते हैं, उनसे अच्छे से पेश आयें।

*- मीन:
इस राशी के व्यक्ति को अदृढ़ संकल्प और अनिश्चित विचार में पड़ कर अपना समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। प्रसिद्धि पाने के लिए भावनाओं में भी बहने से बचना चाहिए।
***