---

नकली दूध पी कर जान भी जा सकती है, इन घरेलू तरीकों से करें दूध की शुद्धता की जाँच

जहाँ हमारा देश टेक्नोलॉजी की नई ऊँचाइयों को छू रहा है वहीं खाद्य सामग्री की शुद्धता के मामले में निरंतर गिरावट हो रही है। जब तक हमारा खान-पान अच्छा नहीं होगा तब-तक हम स्वस्थ भी नहीं रह पाएंगे। कृत्रिम खान-पान के कारण आज की युवा पीढ़ी का स्वास्थ खतरे में है। नकली, मिलावटी और कृत्रिम खाद्य पदार्थों को सही तरह से पहचानने में हम आपकी मदद करेंगे।

इससे पहले हमने प्लास्टिक चावलों कि जाँच की घरेलू विधयां बताई थीं। आज जानेंगे मिलावटी और नकली दूध की जाँच कैसे करें।  

न्यूनीकरण टेस्ट
धीमी आँच पर दूध को 2-3 घंटो तक गर्म करें। कुछ देर बाद गाड़ा हो जायेगा और खाये का रूप लेने लगेगा। खोये के रूप में आने के बाद यदि छूने पर रूखापन महसूस होता है तो समझ लें की दूध पीने लायक नहीं है। यदि दूध में चिकनाई महसूस सी होती है तो दूध सही और पीने लायक है। दूध की शुद्धता पता करने का यह एक आसान तरीका है।

सिंथेटिक दूध की जाँच
सिंथेटिक दूध मिलावट से बनाया जाता है। इसमें असली दूध के अंदर केमिकल और साबुन मिला दिया जाता है। दूध को चखने पर यदि साबुन जैसा स्वाद आता है और गर्म करने पर पीला रंग छोड़ता है तो समझ लें की दूध मिलावटी है। 

दूध में पानी की मिलावट
दूध में सबसे ज़्यादा पानी की मिलावट पाई जाती है। निश्चित ही दूध में पानी की मिलावट आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं है परंतु आपकी जेब के लिए नुकसानदेय ज़रूर है। दूध में पानी की मिलावट है या नहीं इसकी जाँच करने का आसान सा तरीका है। दूध की एक बूँद किसी झुकी हुई सतह पर डाल दीजिये। यदि दूध बिना कोई निशान छोड़े तेजी के साथ बह जाता है तो दूध में पानी की मिलावट है। और यदि दूध की बूँद निशान छोड़ कर नीचे जाती है तो दूध शुद्ध है।

दूध में वनस्पति या डालडा की मिलावट
दूध में वनस्पति की मिलावट स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इसकी जाँच करने का भी आसान तरीका है। 1 चम्मच दूध में 2 चम्मच हाइड्रोक्लोरिक एसिड और 1 चम्मच चीनी को अच्छे से मिलाएं। यदि मिश्रण लाल रंग में बदल जाये तो समझ लीजिये कि दूध में वनस्पति की मिलावट है।

दूध में स्टार्च की मिलावट की जाँच
5 ml दूध में 2 चम्मच नमक मिलाएं और इन्तेज़ार करें, यदि दूध का रंग बदल कर नीला हो जाता हैं तो समझ लीजिये कि दूध में स्टार्च की मिलावट है।

दूध में Formalin की जाँच
Formalin सरंक्षण के प्रयोजनों के लिए प्रयोग किया जाता है। Formalin पारदर्शी होता है और दूध को ख़राब होने से बचाता है। Formalin युक्त दूध स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी होता है। Formalin की जाँच के लिए सबसे पहले 10ml दूध टेस्ट ट्यूब में लें। उसके बाद दूध में 2-3 बूँद सल्फ्यूरिक एसिड मिलाएं। यदि दूध की ऊपरी सतह पर नीलापन दीखता है तो दूध मिलावटी है।

दूध में यूरिया मिलावट की जाँच
दूध में यूरिया है या नहीं इसकी जाँच करने का एक ही आसान तरीका है। आधा चम्मच दूध और सोयाबीन पाउडर को एक साथ मिलाएं। उस मिश्रण में 30 सेकंड के लिए लिटमस पेपर डाल कर छोड़ दें।  यदि लिटमस पेपर लाल से नीले रंग का हो जाता है तो दूध में यूरिया मिला हुआ है। खाद्य पदार्थों की शुद्धता को गंभीरता से लें। यदि ज़िन्दगी को रखना हो खुशहाल तो खाएं शुद्ध आहार।
***