---

कभी नहीं होगी हार्ट अटैक से मृत्यु, अगर 30 दिन सुबह ये कर लेंगे

दोस्तों अभी परसों 18 तरीक को श्रीमती रीमा लागू का निधन हो गया, उनके बारे में पढ़ रहा था तो अनेक जानकारियां निकल कर आई सामने, उनको पता ही नहीं था के उनको हार्ट की कोई समस्या है, ऐसा उनके ही नहीं बल्कि 90 प्रतिशत लोगों के साथ होता है, यहाँ तक के हमारे पूर्व राष्ट्रपति श्री APJ Abdul Kalam की भी एक भरी सभा में हार्ट फेल हो जाने से मृत्यु हो गयी थी. लोगों को पता ही नहीं चलता के उनको हार्ट की समस्या है.

आखिर ऐसा क्यों, क्योंकि भारतीय माध्यम वर्गीय परिवार के पास समय या इतना धन नहीं है के वो हर महीने जा कर अपनी जांच करवाएं के उसको क्या क्या बीमारियाँ हैं, क्यूंकि ये जांचे बहुत महंगी हैं. और ऐसा करवा पाना हर एक के लिए संभव नहीं है.

ऐसे में ओनली आयुर्वेद ने सोचा के क्या किया जाये के लोग इस बुरी और भयंकर बीमारी से मरे न, तो ऐसे में आज हम आपको एक सरल सा उपयोग बताने जा रहें हैं.

इस उपयोग को करने की विधि
  1.     जिस मनुष्य को लगे के वो स्वस्थ ही है वो तो एक साल में सिर्फ एक बार जब लौकी का मौसम आता है, उस मौसम में सुबह शौच जाने के बाद एक गिलास लौकी का रस निकाल कर उसमे 50 ग्राम आंवले का रस मिला कर नियमित सेवन करे. हाँ ध्यान रहे लौकी का रस निकालते समय पहले उसको काट कर चेक ज़रूर कर लें के कहीं वो कडवी तो नहीं, कडवी लौकी का जूस नहीं पीना.
  2.     जिस मनुष्य को हार्ट में ब्लॉकेज हो या बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ गया हो, ब्लड प्रेशर ज्यादा रहता हो उसको इसके साथ में एक महीने तक रोजाना एलो वेरा जूस 50 मिली पिलायें और उसके साथ में उसको रोजाना अर्जुनारिष्ट या अर्जुन का काढ़ा भी पिलायें.
  3.     अगर कोई व्यक्ति हार्ट की समस्याओं को लेकर बहुत विकट स्थिति में हो तो उसको उपरोक्त बताये गए दोनों प्रयोगों के साथ में ये यूनानी नुस्खा भी ज़रूर करवाएं, इसके लिए आपको एक कप अदरक का रस, एक कप लहसुन का रस, एक कप निम्बू का रस, एक कप सेब का सिरका लेकर इनको धीमी आंच पर गर्म करें, जब ये चार भाग जल कर एक रह जाए अर्थात अगर 400 ग्राम हैं तो जब जल कर 300 रह जाए तो इसमें 300 ग्राम शहद मिला कर रोज़ सुबह शाम दो दो चम्मच दीजिये.

दूसरी बात ये के अगर आपके घर में या बाहर या छत पर थोड़ी सी जगह हो तो लौकी की बेल ज़रूर लगा लें जिस से आपको शुद्ध बिना रासायनिक खादों के लौकी प्राप्त हो सके. अन्यथा किसी किसान को प्रेरित करें बिना रासायनिक खादों के सब्जी उगाने की.

दवा लेने का समय
आप सुबह शौच जाने के बाद सबसे पहले लौकी का जूस आंवला मिला कर पीजिये, उसके आधे घंटे के बाद में एलो वेरा जूस पीजिये, और उसके आधे घंटे के बाद में ये यूनानी नुस्खा लीजिये. और खाने के एक घंटे के बाद में अर्जुनारिष्ट लीजिये.

हम ओनली आयुर्वेद यही चाहता है के कोई भी व्यक्ति ऐसे हार्ट अटैक से ना मरे. और अगर आप उपरोक्त प्रयोग साल में एक महिना कर भी लेंगे तो आपके हार्ट से सम्बंधित बिमारियों के चांस 99 प्रतिशत कम हो जायेंगे.
क्या करें इमरजेंसी में

ध्यान रहे के जब भी किसी को हार्ट अटैक आये या बेहोश सा हो जाए तो तुरंत में उसका CPR करें, इसके लिए रोगी को सीधे लिटा दें और उसके छाती के बीच में हलके बायीं तरफ हार्ट पर जोर जोर से अपनी हथेली से दबाव दें, इसको एक मिनट में कम से कम 70 से 80 बार करें.
***