Muscle Spasm - नस चढ़ने पर करें ये जुदाई उपाय, तुरंत होगा असर!

यूं तो नस पर नस चढ़ना कोई बड़ी बीमारी नहीं है बल्कि एक साधारण सी प्रक्रिया है, लेकिन जब शरीर में कहीं भी नस चढ़ जाती है तो जान निकल जाती है। और अगर रात को सोते समय पैर की नस चढ़ जाये फिर तो इंसान दर्द और सूजन के चलते घबराकर उठ जाता है। मेरे साथ भी ऐसा अक्‍सर होता है। रात को सोते समय मैं अचानक से नस पर चढ़ी नस से होने वाले दर्द के कारण घबराकर उठ जाती हूं। उस समय मुझे कुछ भी सूझता नहीं है कि मैं क्‍या करूं? ऐसे में या तो मैं अपने पैरों को काफी देर तक सहलाती रहती हूं या फिर पैर को जमीन पर रखने की कोशिश करती हूं, ताकी ठंडक से शायद पैर की नस उतर जाये।

नस पर नस चढ़ना
जी हां जब नस पर नस चढ़ती है तो उसे ठीक करने के लिए हम तरह-तरह की तकनीक अपनाते हैं। हालांकि नस पर नस क्‍यों चढ़ती है इसका कारण कोई नहीं जानता। यह समस्‍या किसी भी व्यक्ति को किसी न किसी कारण से और कभी भी हो सकती है। नस पर नस चढ़ने पर पैरों में ऐठन भी हो जाती है। टांगों और पिंडलियों में हल्का–हल्का दर्द भी होता है। इसके आलावा पैरों में दर्द के साथ, जलन, झनझनाहट और सूई चुभने जैसा एहसास होता है। कुछ लोग इस दर्द को कम करने के लिए गोलियों का सहारा भी लेते है तो कुछ लोग घरेलू तरीका अपनाकर इसे ठीक करते है। आज हम आपको नस पर चढ़ी नस को उतारने का ऐसा तरीका बताने जा रहे है, जिसकी मदद से तुरंत नस से नस उतार जाती हैं।

नस पर चढ़ी नस को तुरंत उतारता है ये उपाय
कुछ समय पहले एक दिन ऐसे ही बैठे-बैठे मेरे पैर की नस चढ़ गई, संयोगवश उस दिन मेरे सामने मेरी मम्‍मी बैठी थी, उन्‍होंने तुरंत मेरे बाएं हाथ की उंगली मेरे बाएं कान के नीचे की तरफ रखी और कहा कि अब हल्‍के से उंगली को थोड़ा ऊपर और नीचे दबा। ये प्रक्रिया मेरी मम्‍मी ने मुझे 10 सेकेंड तक करने के लिए कहा।

ऐसा करने के कुछ देर के अंदर ही मेरा पैर बिल्‍कुल ठीक हो गया। मैंने अपनी मम्‍मी को धन्‍यवाद दिया और पूछा ऐसा कैसे हुआ तब मेरी मम्‍मी ने बताया कि जिस भाग में नस चढ़ी हो उसके विपरीत भाग के कान के निचले जोड़ पर उंगली से दबाते हुए उंगली को हल्‍का सा ऊपर और नीचे की तरफ 10 सेकेंड तक बार-बार करने से नस उतर जाती है।

साथ ही उन्‍होंने यह भी बताया कि ऐसा होने पर ऐंठन के दर्द को कम करने के लिए थोड़ा सा नमक हथेली पर लेकर उसे चाटने से भी नस उतर जाती है। नमक तुम्‍हारे शरीर में कम इलेक्ट्रोलाइट को पूरा करने में मदद करता है। यह उपाय लोकप्रिय है क्योंकि नमक आसानी से किसी भी घर में उपलब्ध होता है। इसके अलावा तुम नस चढ़ने पर केला भी खा सकती है क्‍योंकि कई बार पोटैशियम की कमी के चलते भी नस पर नस चढ़ जाती है, ऐसे में एक केला खाने से पोटैशियम के स्‍तर में वृद्धि होती है और नस उतर जाती है।

अन्‍य उपाय

    सोते समय अपने पैरों को थोड़ा ऊंचा उठा कर रखें। इसके लिए पैरों के नीचे तकिया रख लें।
    प्रभावित हिस्‍से पर बर्फ की ठंडी सिकाई करें।
    अगर गर्म-ठंडी सिकाई 3 से 5 मिनट की करें तो इस समस्या और दर्द–दोनों से राहत मिलेगी।
    शराब, सिगरेट, नशीले तत्वों का सेवन नहीं करें।
    अपना वजन कम करें। इसके लिए रोजाना सैर पर जाएं या जॉगिंग करें।
    फाइबर युक्त भोजन करें और रिफाइंड फूड का सेवन न करें।
    5-10 बादाम और किशमिश, 2-3 अखरोट की गिरि और 2-5 पिस्ते का रोजाना सेवन करें।

लेकिन ध्‍यान रहें कि अगर आपको ज्‍यादा तकलीफ होती है तो डॉक्‍टर से संपर्क करें।
***