शुक्रवार को करेंगे गुड़ का ये उपाय, तो दूर होगी दरिद्रता, हो जाएंगे मालामाल

इन श्राद्ध पक्ष चल रहे हैं। पितरों का खुश करने के लिए लोग तरह-तरह के दान कर रहे हैं। कुछ दान ऐसे हैं, जो इस दौरान किए गए, तो उनका अभीष्ट फल मिलता है। उन्हीं में से एक है गुड़। हालांकि गाय दान का महत्व सबसे ज्यादा है, क्योंकि गाय के दान से हर तरह की सुख-सम्पति मिलती है। लेकिन हर कोई गाय दान नहीं कर पाता।

ऐसे में गुड़ दान करना चाहिए। शुक्रवार को वैसे भी लक्ष्मीजी दिन माना गया है। इस दिन यदि गुड़ दान किया जाए, तो पितर बहुत खुश होते हैं और वो दरिद्रता नाश होने का आशीर्वाद देते हैं। धन की कभी कमी महसूस नहीं होती है। हमारे पौराणिक ग्रंथों में दान का विस्तार से उल्लेख मिलता है। आइए, जानते हैं कि श्राद्ध पक्ष में किस दान का क्या फल मिलता है...

-अनाज में गेहूं, चावल का दान गरीबों और ब्राह्मणों को किया जाता है। इसके पीछे मंशा यह रहती है कि कोई भी व्यक्ति इन दिनों में भूखा न रहे। इसे पितरों का खुशी मिलती है और वो जीवन में आने वाले कष्टों को रोकते हैं।

-नमक का दान भी कर सकते हैं। इससे पितर जल्द प्रसन्न होते हैं। इन दिनों में नमक का दान करना बेहद उपयुक्त माना गया है।

-तिल का दान भी श्रेष्ठ माना गया है। विशेष तौर पर काले तिल का दान करने से नकारात्मक शक्तियों का साया और संकट, विपदाओं से निजात मिलती है। यदि शनिवार को काले तिल और काले कंबल का दान किया जाए, तो इससे न सिर्फ पितर खुश होते हैं, बल्कि शनि की कृपा बनती है। साढ़ेसाती और ढैय्या का कुप्रभाव कम हो जाता है।

-यदि व्यक्ति को किसी तरह की आर्थिक समस्या नहीं हैं, तो वह सोने-चांदी का भी दान ब्राह्मणों और जरूरतमंद लोगों को कर सकता है। सोने का दान करने से घर में कलह-क्लेश नहीं आता है। वहीं चांदी का दान करने से पितरों का आशीर्वाद मिलता है।

-इसके अलावा घी, भूमि का दान भी कर सकते हैं। घी का दान करना शुभ माना गया है। भूमि दान करने से आर्थिक रूप से संपन्नता आती है। घी का दान भी शुक्रवार को करें, तो शुभ फल मिलते हैं।
***