सैकड़ों साल बाद बना विशेष शुभ संयोग इस अक्षय तृतीया पर

साल 2017 में अक्षय तृतीया के दिन ऐसे ही शुभ योगों का मंगल-मिलन हो रहा है। इस दिन दो सबसे खास योग सौभाग्य और छत्र दोनों का महामिलन हो रहा है अत: यह शादी के साथ अन्य विशेष कार्यों के लिए भी शुभदायक होगी।

अक्षय तृतीया (आखा तीज) इस बार 28 अप्रैल को मनाई जाएगी। इस दिन 500 सालों बाद सौभाग्य योग तथा छत्र योग का संयोग बन रहा है।  अत: अक्षय तृतीया पर स्नान, दान और मांगलिक कार्यों का फल कई गुना अधिक शुभ फलदायी माना जा रहा है।

शुक्र गोचर में उच्च का है जो स्पष्ट संकेत दे रहा है कि इस दिन किया गया कोई भी शुभ कार्य अक्षय प्रदान करेगा। इस दिन कृतिका नक्षत्र है जो कि सूर्य प्रधान है। वर्तमान गोचर में लग्न में सूर्य उच्च का होकर बुध की युति में व्याप्त है। अतः यह तिथि अत्यंत शुभदायी है।

अक्षय तृतीया मुहर्त का शुभ समय

इस बार तृतीया 28 अप्रैल को शाम 4.28 से शुरू होगी, जो 29 अप्रैल दोपहर 12.57 बजे तक रहेगी। 29 को सूर्योदय से पांच घंटे अमृतसिद्धि योग रहेगा। इस दौरान पूजापाठ और खरीदारी लाभदायक रहेगी। इससे पहले यह शुभ संयोग 2000 में बना था और इसके बाद 2037 में बनेगा।

इस दिन शोभना योग भी रहेगा जो समृद्धि का कारक माना जाता है।
***