मंदिर में आज ही रखे ये चीज़, घर में होगा पैसा ही पैसा

हर कोई चाहता है कि उसका अपना एक घर हो और उससे उसकी सुख-समृद्धि जुड़ी हो, घर के हर सदस्‍य की बरकत हो। मगर वास्‍तु दोष के कारण तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ता है, दिन-रात मेहनत करने के बावजूद घरवाले तनाव ग्रसित रहते हैं। ऐसे में सभी समस्‍याओं का एक समाधान भगवान गणेश हैं, जो सभी तरह के वास्‍तु दोष को दूर कर देते हैं और सभी घरों में इनका निवास भी होता है क्‍योंकि हर कोई भगवान गणेश की मूर्ति घर में रखता है। मगर वास्‍तु के अनुसार कुछ खास प्रकार की गणेश जी की मूर्तियां घर के लिए बेहद शुभ होती हैं। तो चलिए आपको इस तरह की पांच प्रकार की गणेश जी की मूर्तियों के बारे में बताते हैं, जिससे हमेशा घर की सुख-समृद्धि बनी रहेगी।

आम, पीपल और नीम से बनी गणेश जी की मूर्ति घर के अंदर जरूर स्थापित करें। मुख्यतः इसे हमेशा घर के मुख द्वार पर ही लगाएं, क्‍योंकि वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा करने से घर में हमेशा सकारात्मकता बनी रहेगी और ये उपाय घर में धन व सुख में वृद्धि कारक माने गए हैं।

दूसरी प्रकार की मूर्ति जिसे घर में रखना चाहिए, वो है गाय के गोबर से बनी गणेश जी की मूर्ति। माना जाता है की गणेश के गोबर से बनी मूर्ति अगर घर में रखी जाए तो इससे धन की वृद्धि होती है।

वहीं अगर आप अतिरिक्त लाभ चाहते हैं तो रविवार या पुष्य नक्षत्र में श्वेतार्क गणेश की मूर्ति स्थापित करें और उनकी नित्य दिन पूजा करें। वास्‍तु शास्‍त्र के अनुसार ऐसा करने से रुके हुए सारे काम बन जाते हैं और इसे मुख्यतः धन की सम्पदा के लिए शुभ माना गया है।

क्रिस्टल को हमेशा से ही वास्तु शास्त्र में उत्तम धातु माना गया है, कहते हैं इससे सभी तरह के वास्‍तु दोष दूर हो जाते हैं। इसलिए अगर हम क्रिस्टल से बनी गणेश की मूर्ति को स्थापित करें तो ये भी हमारे लिए बेहद शुभ साबित होगा। वहीं गणेश जी के साथ क्र‌िस्टल की लक्ष्मी की पूजा भी धन व सौभाग्य वृद्ध‌िकारक मानी गई है।

वास्‍तु शास्‍त्र के अनुसार हल्दी का प्रयोग कर भी गणेश जी की मूर्ति बना सकते हैं, ऐसी मूर्ति बेहद शुभ व सुखदायी होती है। इसे बनाने के बाद पूजा स्थान पर विराजमान करें और नियमित रूप से पूजा करें।
***