Top 10 Home Remedies for Acidity | एसिडिटी के लिए 10 घरेलू नुस्खे


एसिडिटी - एसिडिटी की समस्या इन दिनों आम हो गई है। पेट में जब सामान्य से अधिक मात्रा में एसिड निकलता है, तो उसे एसिडिटी कहते हैं। और जब यह स्राव तेज हो जाता है, तो हमें सीने में जलन का अहसास होता है। आइए जानें ऐसे कुछ घरेलू उपाय जिन्‍हें अपनाकर आप एसिडिटी से छुटकारा पाया जा सकता है।

टमाटर - टमाटर में कैल्शियम, फास्‍फोरस व विटामिन-सी पाया जाता है। जो शरीर से जीवाणुओं को बाहर निकालता है। टमाटर स्‍वाद में खट्टा होता है, लेकिन इससे शरीर में क्षार की मात्रा बढ़ती है। टमाटर के नियमित सेवन से एसिडिटी की शिकायत नहीं होती।

अनानास - एसिडिटी होने पर एंजाइम्‍स से भरे अनानास के रस का सेवन करें। खाने के बाद अगर आपको पेट अधिक भरा व भारी महसूस हो रहा है, तो आधा गिलास अनानास का ताजा रस पीने से सारी बेचैनी और एसिडिटी खत्म हो जाती है।

अजवाइन - अजवाइन का उपयोग भारतीय मसाले के रूप में कई सदियों होता आ रहा है, लेकिन अजवाइन सिर्फ एक मसाला ही नहीं है ये कई तरह के औषधीय गुणों से भरपूर है। यह एसिडिटी में भी बहुत फायदेमंद होती है। एसिडिटी होने थोड़ी सी अजवाइन और जीरे को साथ भून लें। फिर इसे पानी में उबाल कर छान लें। इस छने हुए पानी में चीनी मिलाकर पिएं, एसिडिटी से राहत मिलेगी।

पपीता - पपीता अत्यंत गुणकारी फलों में से एक है। यह पेट से संबंधित बीमारियां जैसे कब्‍ज, गैस, एसिडिटी व कफ के लिए अमृत की तरह काम करता है। इससे निकलने वाला रस अपने वजन से 100 गुना प्रोटीन बहुत जल्द पचा देता है। इससे आमाशय तथा आंत संबंधी विकारों में बहुत लाभ मिलता है।

शतावरी - शतावारी की जड़ एसिडिटी के लिए बहुत फायदेमंद होती है। अगर इसकी जडों का चूर्ण को गाय के दूध में उबाल कर एसिडिटी से ग्रस्त रोगी को दिया जाए तो तेजी से आराम मिलता है। शतावरी की जडों का चूर्ण शहद के साथ चाटने से भी तेजी से फायदा होता है।

काली मिर्च और नीबू - काली मिर्च और नीबू का एसिडिटी में प्रयोग बहुत अच्‍छा रहता है। एसिडिटी में एक गिलास गुनगुने पानी में चुटकी भर काली मिर्च का चूर्ण तथा आधा नींबू निचोड़कर नियमित रूप से सुबह पीना चाहिए। ऐसा करने से पेट साफ रहता है और एसिडिटी में फायदा होता है।

मेथी - मेथी से पेट और आंत की सभी समस्‍याएं दूर होती है। एसिडिटी की समस्‍या से बचने के लिए रोज सुबह खाली पेट कुछ दाने मेथी के खाने से फायदा होता है। या फिर मेथी और मठ्ठे का घोल बना कर पीएं। ऐसा करने से एसिडिटी समेत पेट के सभी रोग दूर हो जाएगें।

अमरूद - अमरूद का सेवन कब्‍ज और एसिडिटी में बहुत फायदेमंद होता है। इसमें प्रचुर मात्रा में मौजूद विटामिन, फाइबर व मिनरल स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहद लाभकारी होते हैं। अमरूद में पाया जाने वाला फाइबर कब्‍ज को दूर करता है।

जामुन - जामुन में ग्‍लूकोज और फ्रक्‍टोज और इसके बीज में कार्बोहाइड्रेज, प्रोटीन और कैल्शियम अधिक मात्रा में पाया जाता है। मौसम के अनुरूप इसका सेवन औषधि के रूप में करना चाहिए। इसका सेवन पाचनशक्ति को बढ़ाता है और पेट के रोगों में आराम देता है। खाली पेट जामुन खाने से गैस व एसिडिटी की समस्या समाप्‍त हो जाती है।

दूध - अगर आपको ज्‍यादा मसालेदार खाना खाने से एसिडिटी हो रही है तो आप ठंडे दूध का सेवन करें। कैल्शियम से भरपूर एक गिलास दूध एसिडिटी की समस्या को दूर करने में सहायक होता है। साथ ही कैल्शियम युक्त एंटी एसिड टेबलेट और कैल्शियम एसिडिटी को कम करने में मदद करता है।
***