सर दर्द और माइग्रेन का इससे सस्ता और आसान इलाज कही नहीं मिलेगा

जैसे सर दर्द है, माइग्रेन है, हैड ऐक है, इसकी बहुत अच्छी दवा है गाय का घी| हल्का गरम करो गाय घी और एक एक बूँद रात को नाक में डाल के सो जाओ | सभी तरह के सर दर्द ठीक हो जाएँगे| और गाय घी अगर आप नाक में डालो ना, तो कई बीमारियाँ ठीक होंगी जैसे अगर आपको रात में नींद नहीं आती, बिस्तर पर करवटें बदलते रहते हैं तो आप ये गाय घी डाल के सो जाओ बहुत अच्छी नींद आएगी| कई लोग हैं जो रात को सोते समय नाक से संगीत निकालते हैं, और इतना जोरदार संगीत निकलता है की पड़ोसी उनके सो ही नहीं सकते | वो तो मस्त सो जाते है पर पड़ोसी उनके परेशान रहते हैं | उन सभी लोगों की सबसे अच्छी दवा है ये गाय घी | हल्का गरम करो एक एक बूँद नाक में डाल लो | ड्रॉपर की मदद से | गाय घी और बड़े काम में आता है जैसे साइनस, साइनो साइट्स या साइनस, इसकी बहुत अच्छी दवा है ये गाय घी | किसी को भी साइनस की तकलीफ है, कितनी भी पुरानी है, आप उनको बोलो गाय घी डालें नाक में, बहुत जल्दी ठीक होगा | फिस्नो फिलिया, जिनको भी है, उनको बोलो गाय घी डालें नाक में बहुत जल्दी ठीक होगा |

और जैसे नाक में कई बार हड्डी बढ़ जाती है, मांस बढ़ जाता है, उसकी बहुत अची दवा है ये गाय का घी, हल्का गरम करके डालना है | ऐसे बहुत लोग आपको मिलेंगे जिनको बहुत ज्यादा छीकें आती हैं, हर समय छींकते हैं नाक से पानी आता है, उनको बोलो गाय घी डाल के रात को सो जायें | कई बार नाक बंद हो जाती है तो मुंह से सांस लेते हैं, गाय का घी डाल दो, एक ही बार में नाक खुल जाएगी | और बहुत गंभीर एक बीमारी में काम आता है गाय घी, जब किसी को ब्रेन स्ट्रोक होता है, पैरालिसिस होता है और हमारे ब्रेन के किसी हिस्से में ब्लड जमा हो जाता है, क्लॉट उसको निकालने की ताकत इस गाय घी में है| आप नाक में डालते रहो एक एक बूँद और जिनको ये तकलीफ है उनको कहना ऐसे करके उसको थोडा सा खींचे वो अन्दर जाएगा|

गाय घी ब्रेन के हर उस पार्ट में पहुँच जाता है जहा मैडिसिन भी नहीं पहुँच सकती| बहुत मज़बूत है, और ये गाय घी कम से कम २८-३० बीमारियाँ ठीक करता है | आपको इसके बारे में एक रोचक बात बताऊँ की ये गाय गी जितना पुराना होता है उतना ही अच्छा| मिलता नहीं कहीं | आप रखो इसको| थोडा थोडा शीशी में बना के रखते जाओ | पुराना जितना होता जाएगा, क्वालिटी बढती जाएगी | और एक समय ऐसा आता है की ये कैंसर जैसी गंभीर बीमारी
***