बॉडी बिल्डिंग स्‍टेरॉइड के 5 हानिकारक प्रभाव

जल्‍दी बॉडी बनाने के चक्‍कर में अक्‍सर युवा दवाओं का इस्‍तेमाल करने लग जाते हैं जो कि काफी हानिकारक होता है। ऐसे ही आजकल बॉडी बिल्डिंग 'स्टेरॉइड' का चलन भी पिछले कुछ सालों बढ़ा है। जिसके सेवन से बॉडी बनाने का दावा किया जाता है। जबकि इसके ज्‍यादा इस्तेमाल से शरीर पर कई हानिकारक प्रभाव पड़ते हैं। शरीर का कोई ऐसा हिस्सा नहीं है जहां इसके नुकसान पहुंचाने की संभावना नहीं हो। इसलिए कभी कोई डॉक्टर इसे लेने की सलाह नहीं देता। आज हम आपको स्‍टेरॉइड से होने वाले उन 5 हानिकारक प्रभावों के बारे में बताते हैं जिससे इंसान अपनी जान भी जोखिम में डाल सकता है।

हार्मोन सिस्‍टम पर असर
स्‍टेरॉइड की वजह से हार्मोन्‍स में परिवर्तन होता है जिससे पुरूषों में नपुंसकता, महिलाओं जैस छाती अंडकोषों (टेस्टिल्स) का सिकुड़ना, गंजापन आदि होने की संभावना बढ़ जाती है। जबकि महिलाओं में शरीर के बालों में भारी बढ़ोतरी, मर्दों वाला गंजापन, क्लिट का बड़ा हो जाना, आवाज भारी हो जाना।

शारीरिक परिवर्तन
अगर छोटी उम्र में ही स्‍टेरॉइड ले रहे हैं तो बौनापन की समस्‍या, स्नायु (टेंडन) का टूट जाना, हड्डियों का भुरभुरा होना, कूल्हों का खत्म हो जाना आदि।

ह्रदय पर असर
अच्‍छे वाले फैट में कमी और शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले फैट में बढ़ोत्‍तरी, नसों का संकरा हो जाना, दिल का दौरा, दिल के चार हिस्सों में एक जो कि नीचे की ओर बाईं तरफ होता है, उसका आकार बढ़ जाना।

लिवर को नुकासन
विशेषज्ञों की माने तो स्‍टेरॉइड कैंसर, ट्यूमर, खून से भरी छोटी छोटी गांठें, पीलिया और लिवर का बढ़ जाना जैसी समस्‍या पैदा करता है।

स्किन प्रॉबलम
मुहांसे और गांठें, सिर की त्चचा का ऑइली होना, पीठ पर ढेर सारे लाल रंग के दाने निकल जाना आदि समस्‍या स्‍टेरॉइड की देन है।
***