घर पर बनाये 100% आयुर्वेदीक टूथपेस्ट, जो रोगों को दाँतो के आसपास भटकने भी नही देगा!!

दिन की शुरुआत और दिन का समापन अक्सर टूथब्रश करने से ही होता है और आधे से ज्यादा लोग दाँतों की सफाई के लिये टूथपेस्ट का इस्तेमाल करते हैं । लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि बाजार में मिलने वाले अधिकतर टूथपेस्टमें कुछ हानिकारक तत्व भी मिले होते हैं जो कि स्वास्थय के लिये बहुत ही नुक्सानदायक होते हैं । टूथपेस्ट के अधिकतर उत्पादों में सामान्य रूप से मौजूद रहने वाले हानिकारक तत्वों में से मुख्य होते हैं फ्लूओराईड, ट्राईक्लोसन और सोडियम लौरिल सल्फेट।

ट्राईक्लोसन को बहुत सी रिसर्च में हार्मोन पैदा करने वाली अंतःस्रावी ग्रंथियों को प्रभावित करते हुये पाया गया है जिस कारण से शरीर में हार्मोन का असंतुलन पैदा होता है । सोडियम लौरिल सल्फेट का इस्तेमाल टूथपेस्ट में झाग बनाने के लिये किया जाता है किंतु यह तत्व कैंसर का कारण बनता हैं जिस कारण से टूथपेस्ट में सोडियम लौरिल सल्फेट के प्रयोग को पूरी तरह प्रतिबंधित करने की माँग उठने लगी हैं। फ्लूओराईड एक रेडियोएक्टिव तत्व होता है जो कि स्वयं दाँतों और हड्डियों के लिये बहुत खराब होता है और दिमाग की कार्य क्षमता पर भी बहुत ही बुरा प्रभाव डालता है ।

बाजारू टूथपेस्ट में उपस्थित इतने सारे हानिकारक तत्वों और उनके नुक्सान के बारें में जानकर यह विचार उठना लाजमी है कि इन सबसे बचने के लिये क्या किया जाये और इसका एक उचित समाधान है कि घर पर ही हानिरहित और पूर्णतया सुरक्षित टूथपेस्ट तैयार किया जाये। विधी हम आपको बता रहे हैं । आपको बस ये नीचे लिखे सामान एकत्रित करने हैं-

    नारियल तेल 100 ग्राम
    खाने का सोडा 20 ग्राम
    हल्दी पाउडर 50 ग्राम
    पोदीने का सत्व 5 ग्राम

इन चारों सामानों को चौड़े मुँह वाली कटोरी में डालकर बहुत अच्छे से एकसार मिला लें और ध्यान रखें कि हल्दी और खाने के सोडे की कोई गाँठ न बनी रह जाये, हाँलाकि गाँठ बन जाने से कोई समस्या नही है किंतु प्रयोग करते समय यह गाँठ कई बार बहुत खराब लगती है । अच्छी तरह मिल जाने पर पीले रंग का एक पेस्ट प्राप्त होगा जो प्रयोग किये जाने के लिये तैयार है।

संग्रहण विधि
अब इस तैयार मिश्रण को एक मेहंदी की तरह एक कीप बनाकर उसमे भर लीजिये और अच्छे से पैक कर लीजिये और सील पैक इस कीप को फ्रीज में रख दीजिये जिससे यह मिश्रण थोड़ा कड़ा हो जायेगा और टूथपेस्ट कीप से अपने आप बाहर नही निकलेगा।

प्रयोग विधि
पहली बार प्रयोग करते समय कीप के मुँह को बहुत महीन सा काट लीजिये और अपने टूथब्रश पर जरूरत के अनुसार टूथपेस्ट निकाल लीजिये और कीप को वापिस फ्रीज में रख दीजिये और हमेशा की तरह ब्रश कीजिये।

ध्यान रखें
यदि सही से फ्रीज में ही लगातार रखा जाये तो यह टूथपेस्ट कई महीने तक खराब नही होता है । कुछ लोगों के मन में शंका आयेगी कि हल्दी के कारण दाँतों पर पीलापन चढ़ जायेगा किंतु यह गलत शंका है । चूँकि इस हानिरहित घरेलू टूथपेस्ट में हमने कोई झाग बनाने वाला नुक्सानकारी कैमिकल नही डाला है इसलिये इसके प्रयोग के समय झाग नही बनेंगे लेकिन झाग ना बनने के कारण इसके गुणों में कोई कमी नही आ जाती । यह बिना झाग के भी बहुत उत्तम परिणाम आपको देगा।
***