---

जानिये अपेंडिक्स के बारे में कुछ बहुत ही चौकाने वाली बातें |

बड़ी आंत और छोटी आंत के जोड़ पर स्थित अपेंडिक्स एक बेकार अंग माना जाता है जिसका कोई विशेष काम नहीं होता। यहाँ अपेंडिक्स के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य बताये गए हैं.

हम में से बहुत लोगों ने अपेंडिसाइटिस की दर्दभरी स्थिति के बारे में सुना होगा जो अपेंडिक्स के कारण होता है। क्या आप जानते हैं कि आपके अपेंडिक्स से कई तथ्य जुड़े हुए हैं जिनके बारे में आपको अवश्य जानना चाहिए। जैसा कि हम जानते हैं कि मानव शरीर कई अंगों से मिलकर बना होता है। इनमें से प्रत्येक अंग अपना अपना काम करते हैं ताकि आप स्वस्थ रहें। शरीर को सामान्य रूप से काम करते रहने के लिए कुछ महत्वपूर्ण अंग जैसे फेफड़े, लिवर, किडनी, दिल आदि बहुत महत्वपूर्ण हैं। यदि इन महत्वपूर्ण अंगों में थोड़ी भी खराबी आ जाए या वे ख़राब हो जाएँ तो यह जीवन के लिए खतरनाक हो सकता है।

इसके बाद शरीर में शेष अंग होते हैं जो शरीर के लिए कोई महत्वपूर्ण काम नहीं करते अत: इन्हें बेकार अंग भी कहा जाता है और अपेंडिक्स बहे उनमें से एक है। बड़ी आंत और छोटी आंत के जोड़ पर स्थित अपेंडिक्स एक बेकार अंग माना जाता है जिसका कोई विशेष काम नहीं होता। यहाँ अपेंडिक्स के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य बताये गए हैं.

1 वर्तमान में की गयी खोजों ने दावा किया है कि अपेंडिक्स भी शरीर में कुछ काम करता है। यह शरीर के लिए आवश्यक स्वस्थ बैक्टीरिया को स्टोर करके रखता है।

2 यदि आपको कब्ज़ या इरिटेबल बाउल सिंड्रोम जैसी बीमारियाँ हैं तो इस बात की संभावना है कि आपका मल अपेंडिक्स में रुक रहा है जिसके कारण संक्रमण या अपेंडिसाईटिस भी हो सकता है।         


3 यदि आपको नाभि के आसपास बहुत अधिक दर्द होता है तो इसका अर्थ है कि आप अपेंडिसाईटिस से ग्रस्त हैं।

4 कुछ शोध अध्ययनों के अनुसार पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अपेंडिसाईटिस की समस्या कम होती है।

5 अपेंडिसाईटिस आज भी एक आम इमरजेंसी है जिसके लिए तुरंत ऑपरेशन की आवश्यकता होती है।

6 अपेंडिक्स के संक्रमण और अपेंडिसाईटिस से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि अधिक फाइबर युक्त आहार लें।

7 अपेंडिक्स को निकालना बहुत ही सरल प्रक्रिया है जिसे छोटी लेप्रोस्कोपिक सर्जरी द्वारा निकाला जा सकता है जिसमें लगभग 8 मिनिट का समय लगता है।

8 यदि अपेंडिक्स पेट के अन्दर फट जाता है तो इससे बहुत सारे विषैले पदार्थ निकलते हैं जिसके कारण किसी अंग विशेष को नुकसान हो सकता है।
***